मधुबनी – जयनगर /सक्रिय राजद नेता और युवा समाजसेवी सचिन चौधरी बने यूथ इंडिया डेवलपमेंट बोर्ड के जिला संयोजक, लड़ सकते हैं विधानसभा चुनाव

बिहार हलचल न्यूज ,जन जन की आवाज

संयुक्त सम्पादक सुभाष सिंह यादव की रिपोर्ट

जयनगर प्रखण्ड के बरही गाँव निवासी सचिन चौधरी उपाख्य सच्चिदानंद को ‘यूथ इंडिया डेवलपमेंट बोर्ड(Youth India Development Board)’ का मधुबनी जिला संयोजक नियुक्त किया गया है। बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश यादव ने पिछले सप्ताह 9 मई को नियुक्ति पत्र जारी कर जिला संयोजक पद पर सचिन चौधरी उपाख्य सच्चिदानंद को महती जिम्मेवारी सौंपी है। अब पूरे मधुबनी जिले में अनुमण्डल, प्रखण्ड, नगर, ग्रामीण स्तर पर टीम विस्तार और टीम गठन का महत्वपूर्ण कार्य सचिन चौधरी पर सौंप दिया गया है। इतना ही नहीं इसका विस्तार पंचायत और मुहल्ला/वार्ड स्तर पर भी करने की योजना है। युवाओं में शैक्षणिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, राष्ट्रीय जागरूकता के साथ ही रोजगार सृजन के वैकल्पिक उपाय, कृषि आधारित लघु एवं मंझौले उद्योग इत्यादि के लिए युवाओं को प्रेरित करने का कार्य यह संगठन करता है।

क्या है यूथ इंडिया डेवलपमेंट बोर्ड(Youth India Development Board)?

2016 में स्थापित यूथ इंडिया डेवलपमेंट बोर्ड भारत की विशाल युवा जनसंख्या को सकारात्मक राह की ओर अग्रसर करने के उद्देश्य से प्रेरित है और इसी दिशा में कार्य करती है। युवाओं में समाज और देश के प्रति जिम्मेवारी, मानवीय संवेदना, सांस्कृतिक जागरूकता इत्यादि का प्रोन्नयन ही इसका मूल उद्देश्य है। ‘भारत गाँवों का देश है’ इसपर आधारित ग्रामीण विकास, भारत को शैक्षिक और खेल के क्षेत्र में हब बनाने, शिक्षा में उत्कृष्टता द्वारा पूरे विश्व में भारतीय नेतृत्व प्रदान करना, खेल संस्कृति का विकास, खेल संरचना के लिए संघर्ष, वैज्ञानिक सोच को बढ़ावा देना, राष्ट्र की उन्नति के लिए हरेक नागरिक को कर्तव्यनिष्ठ बनाना एवं रूढ़िवादी एवं जड़ विचारों को त्यागकर प्रगतिशील सोच को बढ़ाना इत्यादि इसका मुख्य कार्य है।

यह संस्था भारत सरकार के एमएसएमई मंत्रालय, पर्यटन मंत्रालय, श्रम एवं रोजगार विभाग, कृषि मंत्रालय के PGSI, कार्मिक मंत्रालय के RTI इनिशिएटिव ‘आआरटीआई ऑनलाइन’ से निबंधित है। इसके अलावा यूनाइटेड नेशंस के सोशल अफेयर्स एवं इकोनॉमिक्स विभाग, यूनेस्को के इंटरनेशनल सेंटर फॉर टेक्नीकल एवं वोकल एडुकेशन एंड ट्रेनिंग से भी सम्बद्ध है।
इसका उद्देश्य समाज को प्रगतिशील और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, रोजगार के लिए स्टार्टअप्स इत्यादि पर केंद्रित है।

कौन है सचिन चौधरी उपाख्य सच्चिदानंद

सचिन कुमार चौधरी मधुबनी जिले के जयनगर अंतर्गत बरही पंचायत के रहने वाले हैं और राष्ट्रीय जनता दल के सक्रिय नेता एवं युवा समाजसेवी हैं। 26 वर्षीय सचिन तकनीकी शिक्षा प्राप्त किये हैं। पिछले कई वर्षों से न सिर्फ बरही गाँव और बरही पंचायत बल्कि जयनगर इत्यादि क्षेत्र में सामाजिक कार्यों, स्वच्छता अभियान इत्यादि में पूरे मनोयोग से सक्रिय रहे हैं। सामाजिक न्याय और वंचितों के उत्थान के लिए समर्पित सचिन चौधरी के जुनून का उनके राजनीतिक विरोधी भी प्रशंसा करते हैं।

लड़ सकते हैं विधानसभा चुनाव
आमलोगों में यह चर्चा बलवती है कि आगामी बिहार विधानसभा चुनाव में सचिन चौधरी खजौली विधानसभा से उम्मीदवार हो सकते हैं। इस सम्बंध में कई तरह के कयास लोगों द्वारा लगाया जा रहा है। इस सम्बन्ध में सचिन चौधरी के एक समर्थक आलोक गोहिवार ने बताया कि हमारे नेता सचिन चौधरी हैं और हमेशा समाज के लिए समर्पित रहते हैं और इस बार वे निश्चित रूप से चुनाव लड़ेंगे। वहीं एक अन्य समर्थक सुभाष यादव ने बताया कि सचिन चौधरी के साथ हुआ अन्याय और साजिश को जनता जान चुकी है और अपने असली नेतृत्वकर्ता को पहचान चुकी है। वहीं विधानसभा चुनाव लड़ने के सम्बंध में सचिन चौधरी से पूछने पर उन्होंने बताया कि “मैं राष्ट्रीय जनता दल का एक समर्पित ‘सिपाही’ हूँ और बिहार के भावी ‘मुख्यमंत्री’ तेजस्वी यादव जी का जो आदेश होगा, वह मेरे लिए शिरोधार्य होगा। श्री तेजस्वी यादव जी ने भी संकेत दिया है कि अगले चुनाव में दो तिहाई उम्मीदवार युवा होंगे। मैं जनता की सेवा में लगा हुआ हूँ और लगा रहूँगा” सचिन चौधरी को कई अन्य दलों से भी ऑफर मिला है लेकिन उनका कहना है कि मैं राजद में हूँ और तेजस्वी जी हमारे साथ हुए अन्याय के लिए आवाज बुलंद किये इसके लिए धन्यवाद देता हूँ और आगे जनता की माँग पर सबकुछ निर्भर करता है।

मुख्यमंत्री की आलोचना पर जेल भेजे जाने के बाद राष्ट्रीय स्तर पर चर्चित हुए हैं सचिन चौधरी, पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी लिया था संज्ञान

पिछले वर्ष अक्टूबर 2019 में शराब से जुड़े एक फेसबुक पोस्ट में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और बिहार सरकार की तथाकथित आलोचना बताकर सचिन चौधरी पर एक केस दर्ज कर जेल भेज दिया गया था, जिसके परिणामस्वरूप बिहार की सभी विपक्षी दलों ने नीतीश सरकार को जमकर घेरा था और कहा कि जब शराब प्रतिबंधित है तो फिर शराब आ कहाँ से रहा है और जो शराब मिलने की शिकायत करे उसके ऊपर फर्जी केस दर्ज कर जेल भेजा जा रहा है। अपने कार्यकर्ता सचिन चौधरी की इस तरह की गिरफ्तारी और जेल भेजे जाने से पूर्व उप मुख्यमंत्री और वर्तमान में बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव भी तमतमा गए थे और नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला था। सचिन चौधरी के साथ न्याय होने तक संघर्ष की बात कही थी। इस मामले में सचिन चौधरी की चर्चा न सिर्फ बिहार बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर हुई थी और सभी ओर से बिहार सरकार को आलोचना का सामना करना पड़ा था। सोशल मीडिया सचिन चौधरी के समर्थन में और नीतीश कुमार के विरोध में रंग गया था। उस मामले में सचिन चौधरी को लगभग 6 महीने तक मधुबनी जेल में रहना पड़ा था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *