दरभंगा – विश्वविद्यालय धरना स्थल के समीप मिथिला महोत्सव के मद्देनजर प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन

बिहार हलचल न्यूज ,जन जन की आवाज

ब्यूरो – अजित कुमार सिंह

मिथिला स्टूडेंट यूनियन के विश्वविद्यालय इकाई के अंगद भारती के नेतृत्व में विश्वविद्यालय धरना स्थल के समीप प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से मिथिला महोत्सव आयोजन समिति के अध्यक्ष व विश्वविद्यालय के मुख्य प्रवक्ता जय प्रकाश झा ने कहा कि मिथिला महोत्सव का आयोजन शिवराम बेनीपुर में होने जा रहा है जो आयोजन चार दिवसीय है जिसके उद्घाटन 15 मार्च 2020 को पाग शोभायात्रा निकालकर किया जाएगा । जिसमें मिथिलांचल के कई नामचीन विद्वान शामिल होंगे और छात्रों को सुनहरा भविष्य को लेकर व्याख्यान देंगे । यह कार्यक्रम पूर्ण रूप से शिक्षा संस्कृति और सांस्कृतिक सामागम के रूप में मनाया जाएगा ।

जिसके उद्घाटन सत्र में मिथिला विश्वविद्यालय के सीनेट सदस्य डॉक्टर प्रोफेसर आईएस के फैक्ट्री कहे जाने वाले प्रख्यात विद्वान नारायण झा और युवा चाइल्ड स्पेस्लिस्ट डॉक्टर उत्सव राज एवं बेनीपुर के अनुमंडल पदाधिकारी अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अंचलाधिकारी एवं सीएम कॉलेज के प्रोफ़ेसर इंदिरा झा मैथिल कवि डॉक्टर रोबिन खान के अलावा मनीष कमल झा संरक्षा फ्रेंड्स ऑफ कंबल सेट कीवी गरिमामय उपस्थिति देने का प्रयास करेंगे तथा मिथिला महोत्सव के उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल होंगे जो क्षेत्र और छात्र के विकास के लिए व्याख्या देंगे तथा छात्रों के शिक्षा और रोजगार प्राप्ति को लेकर उनका ध्यान आकर्षित करेंगे ।जिससे छात्र अपने आप को डेवलप कर सके वही इस कार्यक्रम के माध्यम से मिथिला प्रतिभा खोज प्रतियोगिता का आयोजन 22 मार्च को किया जाएगा । छात्र संसद सह संवाद का आयोजन 29 मार्च 2020 को किया जाएगा साथ ही कार्यक्रम का समापन भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ 5 अप्रैल को किया जाएगा। जिसमें मिथिलांचल के कई बड़े-बड़े सुपरस्टार गीतकार नायक महानायक व युवा कलाकार शामिल होंगे और मिथिला महोत्सव के मंच पर अपना कला के माध्यम से छात्रों को और मिथिलांचल वासियों को एक नया मार्गदर्शन देने का काम करेंगे मिथिला महोत्सव आयोजन से छात्र जागरूक होंगे तथा आने वाले समय में सरकार से गरीबी कुपोषण भुखमरी वह बेरोजगारी को लेकर सवाल करेंगे ताकि मिथिला में बंद पर उद्योग धंधा जल्द से जल्द चालू हो सके और लाखों की संख्या में जो छात्र ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय से स्नातक अस्नातक b.ed बीबीए बीसीए एमबीए पीएचडी जैसे कोर्स करके जो बेरोजगार बैठे हैं उसे रोजगार मिल सके आजकल सोशल मीडिया के माध्यम से ट्रेन चल रहा है और उसमें बिहार फर्स्ट और बिहारी फर्स्ट का तवज्जो दिया जा रहा है जबकि मिथिलांचल में कुल बीस जिला होने के साथ ही बेरोजगारी भरे पड़े हुए हैं और यहां का युवा आस लगाए बैठे हुए हैं कि कोई आए और मिथिला फर्स्ट और मैथिली फर्स्ट को बढ़ावा देते हुए मिथिलांचल से गरीबी कुपोषण भुखमरी दूर करें परंतु पैसे के बल पर आज के समय में एक पूर्व एमएलसी के बेटी पोस्टर गर्ल बनकर उभरती है और अपने आप को सीएम कैंडिडेट घोषित कर देती है जबकि प्रशांत किशोर की टीम भी अगले 10 वर्षों में बिहार को नंबर वन का दर्जा दिलवाने को लेकर प्रयास कर रहे हैं साथ ही युवा वर्ग में कन्हैया कुमार तेजस्वी यादव जैसे नेता जगह-जगह रैली करके लोगों से वोट देकर सरकार बनाने की गुहार करते हैं तथा मुख्यमंत्री बनने की सपना देखते हैं लेकिन मिथिलांचल में बंद पड़े चीनी मिल पेपरमिल जूट मिल सूत मिल को चालू करवाने को लेकर कोई भी जनता को ठोस आश्वासन नहीं दे रहे हैं और आजकल जात पात की राजनीति करके आपस में लोगों को लड़ाने का काम कर रहे हैं जो मिथिला महोत्सव के माध्यम से इन सभी नेताओं को मिथिलांचल से बोरिया बिस्तर समेट कर भगाने का काम करेंगे और नव विकल्प संकल्प को लेकर मिथिला विश्वविद्यालय समेत मिथिलांचल के लोगों को जागरूक करेंगे ताकि लोग अपना अहमियत जान सके और बंद पर उद्योग धंधा को लेकर अपनी आवाज बुलंद कर सके। वह सागर सिंह ने कहा कि मिथिला विश्वविद्यालय से प्रत्येक वर्ष लम सम 300000 छात्र-छात्राएं स्नातक अस्नातक करके घर बैठ जाते हैं जो सरकार के पास डाटा भी है जो मिथिला विश्वविद्यालय से सबसे ज्यादा छात्र हर एक साल अपना डिग्री लेते हैं और डिग्री लेने के बाद उन्हें सिर्फ अंधेरा ही नजर आता है क्योंकि मिथिलांचल में एक भी उद्योग धंधा नहीं चालू है ना ही इसे चालू करने को लेकर सरकार किसी तरह का प्रयास कर रहा है ।

मिथिला स्टूडेंट यूनियन लगातार मिथिलांचल में बंद पर उद्योग धंधा को चलाने को लेकर संघर्ष व आंदोलन कर रही है साथ ही ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय को पूरे बिहार में नंबर वन विश्वविद्यालय की उपाधि प्राप्त होने के बावजूद भी आज तक माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से लेकर हमारे प्रधानमंत्री सांसद विधायक तक एक बार भी केंद्रीय विश्वविद्यालय की मांग नहीं सदन में उठाए हैं ना ही सरकार से मांग किए हैं जिससे छात्रों को यहां डीगड़ी तो मिलता है परंतु उन्हें शिक्षा प्राप्ति के दौरान केंद्रीय विश्वविद्यालय नहीं होने के कारण उन्हें सेंट्रल लाइब्रेरी में पुस्तक रीडिंग रूम स्मार्ट क्लास अतिरिक्त क्लास के जैसे किसी भी अन्य तरह का सुविधा सुचारू रूप से नहीं मिल पाता है जिसके चलते छात्र मानसिक रूप से हमेशा प्रताड़ित रहते हैं और मिथिला विश्वविद्यालय से डिग्री लेकर सिर्फ घर में दिखाने का काम करते हैं क्योंकि मिथिला विश्वविद्यालय में सिर्फ पैसे के बल पर ही डिग्री की प्राप्ति होता है और शिक्षा के नाम पर छात्रों को किसी भी तरह का सुविधा मुहैया नहीं कराया जाता है मिथिला महोत्सव के माध्यम से हम छात्रों को और तमाम मिथिलांचल वासियों को जागरूक करेंगे आने वाले चुनाव में मिथिलांचल के संस्कृति शिक्षा और संस्कृतिक और अपने धरोहर को बचाने को लेकर सरकार से सवाल करेंगे तथा एक तरह से मिथिला महोत्सव के माध्यम से पूरे मिथिलांचल में बंद पड़े उद्योग धंधा को चालू करवाने को लेकर जोरदार आंदोलन करने का भी प्रयास करेंगे ।वही अंगद भारती और केशव मैथिल ने कहा सरकार युवाओं को ठगने का काम कर रहा है इसलिए मिथिला महोत्सव में मिथिलांचल के कई नामचीन हस्ती आएंगे जो छात्रों को उनके उज्जवल भविष्य को लेकर उनको तर्क वितर्क देंगे ताकि मिथिलांचल से शिक्षा संस्कृति और सांस्कृतिक को बचाने को लेकर युवा को जागरूक करेंगे जो पूरे मिथिलांचल वासियों के लिए हर्ष की बात होगी प्रेस कॉन्फ्रेंस में मिथिला स्टूडेंट यूनियन के सदस्य मनीष कुमार वेदांत वत्स दुर्गानंद राय आदर्श पाठक सुरेंद्र झा मिथिला महोत्सव के उपाध्यक्ष रघुनाथ भगत हीरो यादव सुनील कुमार झा उर्फ मोती बाबू कारी झा कमलेश शर्मा कैलाश समेत कई कार्यकर्ता मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *