दरभंगा – शिव-पार्वती के चतुर्थी पूजन के साथ महाशिवरात्रि महोत्सव का समापन।। 2 – दरभंगा – सांप्रदायिक सौहार्द का संदेश भी दे रहे बाबा सिद्धेश्वर नाथ।। 3.दरभंगा – क्रांतिकारी युवाओं को राजनीतिक साजिश के तहत।। 4 – समिति द्वारा दो जरूरत मंद लड़कियों की शादी में घरेलू जरूरी सामान।।5 . दरभंगा – दो दिवसीय रेड रिबन क्लब कार्यशाला।।6 . दरभंगा – पुलिस पब्लिक के बीच क्रिकेट मैच का आयोजन

बिहार हलचल न्यूज ,जन जन की आवाज

ब्यूरो -अजित कुमार सिंह

दरभंगा -शिव-पार्वती के परिणय उत्सव के चतुर्थी पूजन के साथ मनीगाछी प्रखंड के टटुआर पंचायत अंतर्गत विशौल गांव में अवस्थित अति प्राचीन श्री श्री 108 बाबा सिद्धेश्वर नाथ महादेव मंदिर परिसर में आयोजित ।महाशिवरात्रि महोत्सव का समापन हो गया। समापन समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में मिथिला-मैथिली आंदोलन की शीर्षस्थ स्तंभ डॉ बैद्यनाथ चौधरी बैजू उपस्थित हुए। उनके साथ विद्यापति सेवा संस्थान के डॉ गणेश कांत झा, बुजुर्ग ग्रामीण योगेंद्र झा, परमानंद झा, विद्यानंद झा, नारायण राय आदि भी मंचस्थ हुए। केदारनाथ कुमर के संचालन में आयोजित समापन समारोह में मिथिला की गौरवशाली परंपरा अनुरूप अतिथियों का स्वागत पाग, चादर व माला से मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष एवं पूर्व मुखिया प्रो जीव कांत मिश्र ने किय ।इस मौके पर अपने संबोधन में डॉ बैद्यनाथ चौधरी बैजू ने धार्मिक अनुष्ठान के बहाने साहित्यिक एवं सांस्कृतिक विरासत को सहेजने की दिशा में ग्रामीणों द्वारा किए जा रहे कार्यों की जमकर तारीफ की। मंदिर परिसर में हाल के दिनों में निर्माण किए गए पार्वती मंदिर एवं इंद्रकांत झा स्मृति द्वार की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि पुरखों की कीर्ति को स्थापित करते हुए ग्रामीणों द्वारा बाबा सिद्धेश्वर नाथ मंदिर परिसर का किया जा रहा उत्तरोत्तर विकास सराहनीय एवं अनुकरणीय है। मौके पर मैट्रिक एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा में स्थान पाने वाले छात्र-छात्राओं को क्रमशः सतनजीव झा छात्रवृत्ति एवं देव मिश्र छात्रवृत्ति प्रदान किए गये। समापन समारोह में मैथिली मंच के स्वनामधन्य उद्घोषक रामसेवक ठाकुर के संचालन में धरोहर सांस्कृतिक मंच द्वारा प्रस्तुत रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम दर्शकों के विशेष आकर्षण में रहा।

2 – दरभंगा – सांप्रदायिक सौहार्द का संदेश भी दे रहे बाबा सिद्धेश्वर नाथ

प्रखंड के टटुआर पंचायत अंतर्गत विशौल गांव में अवस्थित अति प्राचीन श्री श्री 108 बाबा सिद्धेश्वरनाथ महादेव मंदिर इलाके में धार्मिक आस्था का केंद्र बिंदु होने के साथ-साथ सांप्रदायिक सौहार्द की अद्भुत मिसाल भी बना हुआ है। मंदिर के प्रबंधन की बागडोर जहां गांव की हिंदुओं ने थाम रखी है वहीं, इस परिसर के साफ-सफाई की जवाबदेही गांव के समसुल मियां ने स्वेच्छा से अपने जिम्मे ले रखी है। मंदिर परिसर की अपने दोनों हाथों में झाड़ू थामे साफ सफाई करने वाले समसुल मियां कहते हैं कि मनोकामना सिद्धि के लिए इलाके में प्रसिद्ध बाबा सिद्धेश्वरनाथ मंदिर परिसर की साफ-सफाई करते हुए उन्हें गजब का सुकून मिलता है। इस कार्य से उन्हें धर्म लाभ तो हुआ ही है जो, गांव-समाज के लोगों द्वारा उनके सेवा भाव को सम्मान के नजरिए से देखा जाना, उनमें अभूतपूर्व सुकून का भाव जगा दिया है।मंदिर परिसर में नवनिर्मित ‘इन्द्रकांत झा स्मृति द्वार’ भी न सिर्फ भक्तों के विशेष आकर्षण में है, बल्कि गंगा-जमुनी हुनर का नायाब मिसाल बना हुआ है। ग्रामीण इन्द्रकांत झा की पुण्य स्मृति में उनके पुत्रों द्वारा बनाये गये इस द्वार की खासियत है कि करीब 200 वर्षों पुराने इस मंदिर के बरामदे की अनुकृति के रूप में निर्मित इस द्वार का ढांचा जहां, लोक आस्था के महापर्व छठ में वर्षों से सूर्य अर्घ्य देने वाले अदलपुर के बुजुर्ग राजमिस्त्री सागर के हाथों ने तैयार किए हैं वही, इसकी कसीदाकारी जुमे व ईद की नमाज पर दुआओं के लिए उठने वाले गांव के युवा राजमिस्त्री मो0 फिरोज के हाथों ने किए हैं।इलाके में सैकड़ों निजी भवनों व घरों का निर्माण कर चुके मो0 फिरोज बताते हैं कि बाबा सिद्धेश्वर नाथ मंदिर के प्रवेश द्वार की कसीदाकारी कर उनमें अभूतपूर्व आत्मबल का संचार हुआ है। इस कार्य को करने के बाद इलाके के लोगों ने उनके हुनर को सम्मान के नजरिए से देखकर उनमें अद्भुत संतोष का भाव जगा दिया है, जो इलाके में हिंदू मुस्लिम भाईचारे की अद्भुत मिसाल मिसाल पेश कर रहा है। मंदिर के रंग-रोगन में गांव के पेंटर सुरेंद्र के हुनर का जादू सबका मन मोह रहा।मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष एवं पंचायत के पूर्व मुखिया प्रो जीव कांत मिश्र का कहना है कि मंदिर परिसर की सफाई में लगे समसुल मियां के हाथ व करीब 200 वर्ष पुराने इस मंदिर का नवनिर्मित प्रवेश-द्वार गंगा-जमुनी तहजीब को दर्शाने के साथ-साथ सांप्रदायिक सद्भाव का सदा से मिसाल बनते रहे इस गांव के लिए प्रेरणा स्रोत है।

 

3.दरभंगा – क्रांतिकारी युवाओं को राजनीतिक साजिश के तहत

मिथिला के क्रांतिकारी युवाओं को राजनीतिक साजिश के तहत NH-57 पर मिथिला विरोधी सरकार के पुलिसिया तंत्र ने आंदोलनकारी सैकड़ों साथियों पर लाठीचार्ज हुआ था । आज भी वह दृश्य जब जहेन में उतरता है तो हृदय द्रवित हो जाता है । आखिर कसूर क्या था उन युवाओं का , जिसे लाठी नही पेड़ के टहनियों से जानवर की तरह पीटा गया ।पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत 5 अगस्त (संसद मार्ग मार्च) , 1 अक्टूबर(मिथिला बन्द) , 2 दिसम्बर (राज मैदान) के बाद मिथिला विकास बोर्ड पर सार्थक पहल नही होने पर 17 फरवरी से जयनगर से पदयात्रा मिथिला के सर्वागिण विकास के नेक इरादे के साथ आरम्भ हुआ । 210 किमी के लम्बी यात्रा में पांव में छाले व अनेकानेक शारिरिक प्रताड़ना को सहते हुए मिथिलावादी युवा अदम्य साहस का परिचय देते हुए “पद यात्रा’ आरम्भ रखा ।NH57 जाम की जानकारी सभी मिथिलावासी व आलाधिकारियों के पास पत्राचार – मिडियाबन्धु व सोसल मीडिया के माध्यम से पहुँच चुकी थी । 24 फरवरी की रात्रि विश्राम गौसाघाट (सदर दरभंगा) में था । 25 फरवरी सुबह गौसाघाट से इंकलाबी साथी मुरिया(बिजली हॉल्ट) पहुँचता है । प्रसाशनिक इंतजाम पूरे लाव-लश्कर के साथ मौजूद थी । NH57 महाजाम आरम्भ हुआ , 5 घण्टों तक प्रशासन चुप्पी साधे खड़े रही , 6ठे घण्टों से वार्ता के लिए पहल आरम्भ हुआ । इधर जाम की लंबी कतार लगभग 7 किमी तक की हो गई ।युवाओं ने “मिथिला विकास बोर्ड” का सपना देखा था , 200 किमी पद यात्रा किया था । जिलाधिकारी – राज्य के अधिकारी को सूचित किया था । लेकिन एक ठोस वार्ता से दूर प्रशासनिक महकमे के हुक्मरानों ने मिथिला विरोधी सरकार के इशारे पर NH-57 पर धरना पर बैठे मिथिला स्टूडेंट यूनियन के सेनानियों पर अमानवीय व्यवहार के साथ वैमनस्यता के साथ लाठीचार्ज किया । पुलिसिया वेष में असाधारण निर्दयी – राजनीतिक पालित-पोषित गुंडों ने क्रांतिकारी साथियो पर बर्बरतापूर्ण लाठीचार्ज किया । 3-4 किमी दौड़ाकर – दौड़ाकर निर्मम अमानवीय हरकतों से लाठी – पेड़ के डंडों से सेनानियों पर प्रहार किया ।क्या लोकतांत्रिक देश मे अपना अधिकार मांगना कानून का उल्लंघन है , आंदोलनकारी पर हुए लाठीचार्ज योग्य है ।क्या मिथिला विकास बोर्ड का मांग करना , मिथिला के बेरोजगारी कुपोषण गरीबी की आवाज उठाना गुनाह है ।

 

4 – समिति द्वारा दो जरूरत मंद लड़कियों की शादी में घरेलू जरूरी सामान

दरभंगा – अखिल भारतीय मारवाड़ी महिला समिति द्वारा दो जरूरत मंद लड़कियों की शादी में घरेलू जरूरी सामान का सहयोग जीतू गाछी स्थित श्याम बाबा मंदिर परिसर में दिया गया।11,11 साडी,लहंगा,पंखा,कूकर,घडी,केसरोल सेट,किचेन् का सामान,कम्बल तथा नगद रूपये भी दिये गये।समिति की अध्यक्षा नीलम पंसारी ने कहा कि समिति द्वारा समय-समय पर समाज एवं मानव भलाई के कार्यो में अग्रणी होकर कार्य किया है।सचिव मधु सरावगी ने कहा कि सेवा भगवान की कृपा व किस्मत वालों को नसीब होती है। मदद करने से मन को शांति मिलती है। उपरोक्त अवसर पर श्रीमती स्नेहलता जैन व आशा गुप्ता ने दोनों कन्याओं को आशीर्वचन दिये। जरूरत मंद परिवार ने समिति का आभार प्रकट किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में किरण बूबना,स्वीटी केडिया,चंचल केडिया,पदमा लुहारूका,सुलोचना केडिया,कविता टीबडेवाल,पिन्की गुप्ता,नीलमजैन,नीलम चौधरी,पूजा केडिया,किरण केडिया आदि ने सहयोग किया।

 

5 . दरभंगा – दो दिवसीय रेड रिबन क्लब कार्यशाला

 

बिहार राज्य एड्स कंट्रोल सोसायटी के तत्वावधान में दो दिवसीय रेड रिबन क्लब कार्यशाला का आयोजन माननीय कुलपति महोदय प्रोफ़ेसर सुरेंद्र कुमार सिंह की अध्यक्षता में आरंभ किया गया उद्घाटन सत्र में माननीय कुलपति महोदय ने अपने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि रेड रिबन कार्यशाला के आयोजन से आज की युवा पीढ़ी को एड्स जैसी खतरनाक लाइलाज संक्रामक बीमारियों के प्रति सचेत रहने में मदद मिलेगी । इतना ही नहीं , ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय क्षेत्र अंतर्गत पढ़ने वाले छात्र छात्राएं इस कार्यशाला से लाभ उठाकर AIDS और स्वैच्छिक रक्तदान की दिशा में जनजागृति का कार्य करेंगे।इतना ही नहीं , Aids संक्रमित लोगों के प्रति समाज के नजरिए में बदलाव में पूरी तरह सक्षम होंगे ।इस अवसर पर राष्ट्रीय सेवा योजना के निदेशक श्री विनय कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय सेवा योजना के सेवक एवं कार्यक्रम पदाधिकारी निरंतर एड्स जागरूकता एवं स्वच्छता की दिशा में कार्य करते रहेंगे इस कार्यशाला के उद्घाटन सत्र में सहायक निदेशक श्री आलोक कुमार ने कहा कि बिहार सरकार के द्वारा स्वैच्छिक रक्तदान एवं एड्स जैसी लाइलाज बीमारी के लिए काफी गंभीर रही है उसकी व्यवस्था राज्य सरकार प्रतिवर्ष करती रही हैं ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय इस दिशा में कारगर पहल कर रही है । उद्घाटन सत्र में कुलसचिव कर्नल निशिथ कुमार रॉय ने ऐसे कार्यशाला को अत्यंत ही आवश्यक बताया और वर्तमान युवा पीढ़ी के लिए इस कार्यशाला से जीवन के प्रति सकारात्मक सोच की दिशा में आगे बढ़ने का अवसर मिलेगा संसाधन पुरूष के रूप में डॉ दिनेश झा ने कार्यशाला में AIDS एवं सुरक्षित रक्तदान के प्रति जागरूकता के बारे में विस्तार से बताया ,संसाधन पुरुष श्री शैलेश कुमार ने एड्स के रोकथाम एवं उपचार जन-जागरूकता पर विशेष रूप से विचार व्यक्त किए ।कार्यक्रम का संचालन राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक डॉ आनंद प्रकाश गुप्ता ने किया ।कार्यशाला में विश्वविद्यालय के अंतर्गत सभी महाविद्यालयों से कार्यक्रम पदाधिकारी , डॉ रजनीश कुमार जीडी कॉलेज बेगूसराय, अखिलेश कुमार राठौर (सीएम कॉलेज दरभंगा) ,राहुल मनहर आरके कॉलेज मधुबनी, लक्ष्मण यादव जीएमआरडी कॉलेज मोहनपुर, डॉक्टर मोहम्मद फैयाज खान सीएम लॉ कॉलेज दरभंगा आफताब आलम इत्यादि अनेक कार्यक्रम पदाधिकारियों ने भाग लिया । धन्यवाद ज्ञापन डॉ विनोद बैठा, समन्वयक , राष्ट्रीय सेवा योजना ने किया ।

 

6 . दरभंगा – पुलिस पब्लिक के बीच क्रिकेट मैच का आयोजन

दरभंगा सदर  / मखनाही मिथिला उच्च विद्यालय खेल मैदान में मंगलवार को पुलिस पब्लिक के बीच क्रिकेट मैच का आयोजन किया गया ।इस मैच को मखनाही के ग्रामीण युवाओं ने जीत हांसिल कर सिल्ड पर कब्जा जमा लिया । मैच शुरू होने से पहले पुलिस एकादश की टीम ने ओपी अध्यक्ष गौतम कुमार के कप्तानी में टॉस जीतकर बैटिंग करने का निर्णय लिया । एकादश के खिलाडिय़ों ने 16 ऑभरों में नौ विकेट गवाकर 120 रनों का स्कोर खड़ा कर दिया।वहीं जबाब में मखनाही गाँव के पंचायत समिति सदस्य गुड्डू सिंह के कप्तानी में टीम में शामिल युवा खिलाड़ियों ने अपने जोश खरोश के साथ खेलना शुरू किया । टीम के खिलाडिय़ों ने कुल 16 ऑभरों की गेंद में 122 रन बनाकर तीन विकेट से मैच जीतकर सिल्ड पर कब्जा जमा लिया ।वहीं इस खेल में मैन ऑफ द मैच पुलिस एकादश के खिलाड़ी दीपक को मिला ।उन्होंने 52 रन एवं तीन विकेट चटकाकर इसका भागीदार हुए . मैच समाप्ति के बाद बिजयी रहे टीम के खिलाडिय़ों को पुर्व मुखिया शैलेंद्र कुमार सिंह मुखिया शमसे आलम खाँ एवं सरपंच मतलुब आलम खाँ ने सामुहिक रुप से विजेता टीम को सिल्ड प्रदान किये । वहीं इन सभी के हाथों रन्नर रहे पुलिस एकादश के टीम को भी सिल्ड उपलब्ध कराया गया ।मौके पर ओपी अध्यक्ष श्री कुमार ने पुलिस पब्लिक के बीच बेहतर संबंध स्थापित करने को लेकर इस तरह का आयोजन किये जाने की बात कही वहीं वे शराबबंदी नशामुक्ति पंचायत एवं शराब कारोबारी को रोकने के लिये गुप्त सूचना देने का आहवान किये । उन्होंने कहा कि कुछ ऐसा ना करें जिसपर हमें कानूनी कार्रवाई करना पर जाये . बुधवार को उसी खेल मैदान में बच्चों के साथ खेलकूद प्रतियोगिता का भी आयोजन होने की घोषणा की गयी ।मखनाही टीम में रॉकी राजू मनोज ऋषि जवाहर अमरजीत दीपक एवं अमित व पुलिस एकादश में अमित रंजन विसेश्वर तिवारी दीपक राजा पंकज रविरंजन राहुल कुमार ब्रिजबिहारी छोटे कुमार आदि शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *