मधुबनी – कपिलेश्वर नाथ महादेव मंदिर स्थल को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने हेतु जिला पदाधिकारी ने भेजा प्रस्ताव

बिहार हलचल न्यूज ,जन जन की आवाज
  1. रिपोर्ट – न्यूज़ डेक्स

मधुबनी/ जिला पदाधिकारी  शीर्षत कपिल अशोक के द्वारा प्रधान सचिव, पर्यटन विभाग, बिहार पटना एवं प्रधान सचिव, कला संस्कृति एवं युवा विभाग, बिहार पटना को कपिलेश्वर नाथ महादेव मंदिर स्थल को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने एवं श्रावणी मेला को राजकीय समारोह के रूप में मनाने हेतु प्रस्ताव भेजा गया है।
प्रस्ताव के माध्यम से बताया गया है कि अंचल अधिकारी, रहिका के प्रतिवेदन के आलोक में अनुमंडल पदाधिकारी, सदर  के द्वारा श्री श्री 108 कपिलेश्वर नाथ महादेव मंदिर, मधुबनी को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने एवं श्रावणी मेला को राजकीय समारोह के रूप में मनाने हेतु अनुशंसा के साथ प्रस्ताव जिला जिलापदधिकारी  के द्वारा प्रस्ताव के माध्यम से बताया गया है कि मधुबनी जिला मुख्यालय से लगभग 13 कि0मी0 की दूरी पर सदर अनुमंडल अंतर्गत रहिका प्रखंड मुख्यालय से लगभग 03 कि0मी0 दूर श्री श्री 108 अति प्राचीन कपिलेश्वर नाथ महादेव मंदिर अवस्थित है। किवदंती है कि यह मंदिर कपिल मुनी द्वारा स्थापित है। यहां सालों भर प्रतिदिन भारी संख्या में श्रद्धालुओं द्वारा दर्शन-पूजन एवं जलाभिषेक किया जाता है। साथ ही यहां प्रति वर्ष श्रावण मास में एक माह तक श्रावणी मेला का आयोजन किया जाता है। उक्त माह के प्रत्येक सोमवारी को लाखों कांवड़ियों द्वारा जयनगर अनुमंडल मुख्यालय (लगभग 30 कि0मी0 की दूरी) स्थित कमला नदी से कांवड़ में पवित्र जल भर कर कपिलेश्वर नाथ महादेव को जलाभिषेक किया जाता है। उक्त स्थल पर पूरे माह सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाता है।
उन्होंने अनुमंडल पदाधिकारी, सदर मधुबनी के पत्रांक 989 दिनांक 24.09.2019 से पर्यटन विभागीय विहित प्रपत्र में प्राप्त प्रस्ताव की छायाप्रति संलग्न कर भेजते हुए अनुरोध किया है कि रहिका प्रखंडान्तर्गत श्री श्री 108 कपिलेश्वर नाथ महादेव मंदिर को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने एवं श्रावणी मेला का राजकीय समारोह के रूप में मनाये जाने की स्वीकृति की दिशा में आवश्यक कारवाई की जायेें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please wait...

Subscribe to our news

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.