दिल्ली – अयोध्या मामला में चीफ जस्टिस की तबीयत बिगड़ने के कारण, 27वें दिन लंच तक

बिहार हलचल न्यूज ,जन जन की आवाज

रिपोर्ट – मनोज कुमार

दिल्ली / लम्बे समय से चले आ रहे अयोध्या मामले पर 27वें दिन की सुनवाई आधे दिन ही चल सकी।  चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की तबीयत ख़राब होने के कारन  लंच के बाद आज की आगे की सुनवाई को टाल दिया गया। आज केस से जुड़े एक अहम मामले पर सुनवाई जरूर हुई।
अयोध्या पर दलीलें सुनने से पहले सुप्रीम कोर्ट ने मुस्लिम पक्षकारों की पैरवी कर रहे वकील राजीव धवन वाले मामले पर सुनवाई की थी। दरअसल, राजीव धवन को 88 साल के एक सेवानिवृत्त लोकसेवक ने मुस्लिम पक्ष की पैरवी करने पर धमकी भरा पत्र लिखा था। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को रोक दिया। सेवानिवृत्त लोकसेवक एन षणमुगमने लिखे पत्र पर खेद व्यक्त कर दिया था। इसपर कोर्ट ने उन्हें आगे ऐसा न करने की चेतावनी देकर छोड़ दिया। राजीव धवन की ओर से पेश सीनियर वकील कपिल सिब्बल ने कहा था कि वह इस सेवानिवृत्त लोक सेवक के लिए किसी प्रकार का दंड नहीं चाहते लेकिन पूरे देश में यह संदेश जाना चाहिए कि किसी भी पक्ष की ओर से पेश होने वाले किसी वकील को इस तरह से धमकी नहीं दी जानी चाहिए।इससे पहले 26वें दिन चीफ जस्टिस ने सुनवाई की डेडलाइन तय की थी। रंजन गोगोई ने 18 अक्टूबर तक दलीलें पूरी करने बात कही थी। अब डेडलाइन तय किए जाने के बाद मामले में 17 नवंबर तक फैसला आने की उम्मीद बढ़ गई है। दरअसल, चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली संवैधानिक बेंच मामले की सुनवाई कर रही है और चीफ जस्टिस का कार्यकाल 17 नवंबर को समाप्त हो रहा है। ऐसा मुमकिन है कि फैसला उनके कार्यकाल में ही आ जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please wait...

Subscribe to our news

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.