सुपौल – जिला स्तरीय वन महोत्सव कार्यक्रम आयोजन

बिहार हलचल न्यूज ,जन जन की आवाज

संवाददाता – प्रमोद कुमार यादव

सुपौल /समाहरणालय स्थित टी0सी0पी0 भवन, सुपौल में वन महोत्सव -सह- सघन वृक्षारोपण अभियान अन्तर्गत जिला स्तरीय वन महोत्सव कार्यक्रम आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन श्री रमेष ऋषिदेव, प्रभारी मंत्री -सह- माननीय मंत्री, अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग, बिहार पटना, श्री विजेन्द्र यादव, माननीय मंत्री उर्जा, उत्पाद एवं निबंधन विभाग, श्री अनिरूद्ध प्रसाद यादव, माननीय विधायक निर्मली, विधान सभा एवं श्री एस0 सिद्धार्थ, प्रधान सचिव, वित्त विभाग, बिहार पटना द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर की गई।
जिलाधिकारी, सुपौल द्वारा स्वागत संबोधन पश्चात सुपौल जिले में वन की स्थिति, राष्ट्रीय कृषि वानिकी परियोजना, मुख्यमंत्री निजी पौधषाला अन्तर्गत लगाये गए पोधो का आंकड़ा प्रस्तुत किया गया। बताया गया कि जल श्रोत चिन्ह्ति कर अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही की जा रही है। नई पहल के रूप में बाढ़ आश्रय स्थल के रूप में निर्मित टीलों पर वृक्षारोपण कराये जाने की कार्रवाई की जा रही है।
प्रभारी मंत्री द्वारा तेजी से घटती जलस्तर को कम करने में वृक्षारोपण को एक महत्वपूर्ण उपाय बताया। साथ ही माननीय मुख्यमंत्री द्वारा राज्य स्तर पर वन महोत्सव कार्यक्रम आयोजन कराने का स्वागत किया।
माननीय मंत्री श्री विजेन्द्र यादव अपने अभिभाषण में पर्यावरण क्षरण, मौसम में असामयिक बदलाव, प्राकृतिक आपदा की बारंबरता एवं व्यापकता के लिए मानव को जिम्मेवार बताया तथा वन महोत्सव की महत्ता पर विस्तृत जानकारी दी। उन्होने बताया कि हाल ही में सर्वदलीय बैठक में पर्यावारण क्षरण को रोकने हेतु सर्वव्यापी योजना बनाने पर सहमति बनी तथा तात्कालिक उपाय में राज्य भर मे अधिक से अधिक वृक्ष लगाये जाने का निर्णय लिाया गया। उन्होंने वृक्षारोपण कार्यक्रम को ‘‘धरती को बचाने व इंसानियत को जिन्दा रखने के लिए‘‘ एक अहम कदम के रूप में वन-महोत्सव कार्यक्रम की सराहना की।
अंत में समाहरणालय परिसर में सभी माननीय द्वारा एक-एक वृक्ष लगाकर ‘‘पेड़ लगाओं धरती बचाओ‘‘ का संदेष देते हुए सभी जनों को कम से कम एक वृक्ष लगाने की अपील की।
इस कार्यक्रम में जिलाधिकारी, सुपौल, पुलिस अधीक्षक, सुपौल, अपर समाहत्र्ता, सुपौल, उप विकास आयुक्त, सुपौल, जिला के प्रेस प्रतिधि राजनीतिक दल के प्रतिधिगण तथा सभी जिलास्तरीय पदाधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *