मधुबनी – डी.आर.डी.ए. सभाकक्ष में मुहर्रम त्योहार के अवसर पर विधि-व्यवस्था को लेकर बैठक

बिहार हलचल न्यूज ,जन जन की आवाज

न्यूज़ डेक्स

   मधुबनी - दुर्गानंद झा प्रभारी जिला पदाधिकारी-सह-अपर समाहत्र्ता की अध्यक्षता में शनिवार को स्थानीय डी.आर.डी.ए. स्थित सभाकक्ष में मुहर्रम त्योहार के अवसर पर विधि-व्यवस्था को लेकर बैठक का आयोजन किया गया।
     बैठक में  सत्यप्रकाश पुलिस अधीक्षक, सुनील कुमार सिंह,अनुमंडल पदाधिकारी,सदर मधुबनी, गणेश कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी, फुलपरास,  सुशील कुमार,जिला परिवहन पदाधिकारी,मधुबनी समेत सभी अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी एवं सभी थानाध्यक्ष,सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी तथा अंचल अधिकारी उपस्थित थे।
     इस अवसर पर प्रभारी जिला पदाधिकारी-सह-अपर समाहत्र्ता के द्वारा सभी पदाधिकारियों को बताया गया कि इस वर्ष मुहर्रम का त्योहार दिनांक 10.09.2019(चांद के दृष्टिगोचर होने पर) को मनाये जाने की सूचना है। ऐसा देखा गया है कि मुहर्रम का पहलाम दूसरे दिन सुबह तक होता है। अतः आवश्यक है कि सभी प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी/पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल जबतक पहलाम नहीं हो जाता है,और उसमें सम्मिलित सभी लोग गंतव्य स्थान के लिए नहीं चले जाते है,तब तक प्रतिनियुक्ति स्थान को नहीं छोड़ेगे।
 सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी/अंचल अधिकारी/थानाध्यक्ष सभी संवेदनशील स्थानों का भ्रमण करने तथा आसूचना तंत्र को मजबूत करने का तथा स्थिति की समीक्षा कर आवश्यकता पड़ने पर निरोधात्मक कार्रवाई करने का निदेश दिया गया। खासकर असामाजिक तत्वों की गतिविधियों पर विशेष निगरानी रखने एवं उनके विरूद्ध कड़ी कारवाई समय से पूर्व करेंगे, जिससे विधि-व्यवस्था बिगड़ने न पाये। उन्होंने सभी पदाधिकारियों को असूचना संकलन करने हेतु सभी पंचायत के मुखिया/सरपंच/प्रखंड प्रमुख एवं विभिन्न राजनीतिक दलों के व्यक्तियों से संपर्क बनाये रखेंगे।
     पुलिस अधीक्षक के द्वारा सभी थानाध्यक्ष, प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचल अधिकारी समन्वय बैठा कर विधि-व्यवस्था पर को बनाये रखने हेतु कार्य करेंगे। साथ ही जिले के सभी थानाध्यक्षों को दिनांक 08.09.2019 (रविवार) को अपने-अपने थाना क्षेत्र के संवेदनशील स्थानों पर फ्लैग मार्च निकालने का भी निदेश दिया गया। साथ ही सभी थानाध्यक्षों एवं अन्य पदाधिकारियों को नये यातायात नियमों का शत-प्रतिशत अनुपालन(हेलमेट तथा शीट बेल्ट) करने का निदेश दिया गया। सभी थानाध्यक्षों को मुहर्रम त्योहार के दौरान विडियोग्राफी की व्यवस्था रखने का निदेश दिया गया। ताकि असामाजिक तत्वों की पहचान कर उन पर आवश्यक कार्रवाई की जा सकें। सभी संवेदनशील स्थानों पर वाच टावर के माध्यम से निगरानी करने का भी निदेश दिया गया।
     उन्होंने सभी पदाधिकारियों को शांति समिति का गठन कर अपने-अपने क्षेत्र में शांति समिति की बैठक का आयोजन सुनिश्चित करने का निदेश दिया। साथ ही मिथ्या अफवाह फैलाने वालों के विरूद्ध शीघ्र कार्रवाई करने एवं ऐसे अफवाहों के खंडन हेतु तत्काल यथोचित कार्रवाई करने का निदेश दिया गया। तथा सोशल मीडिया के माध्यम से फैलाये जा रहे अफवाह पर भी विशेष निगरानी बरतने एवं शीघ्र आवश्यक कार्रवाई करने  को कहा गया। साथ ही यह भी बताया गया कि मुहर्रम त्योहार के अवसर पर जुलुसों के मार्ग एवं समय निर्धारण के प्रश्न को लेकर झगड़ा हुआ करता है। अतः सभी पदाधिकारी जुलुस को नियंत्रित करने में पुलिस एक्ट की धारा-30 तथा सी.आर.पी.सी की धारा 144 की सहायता ले सकते है। साथ ही क्षेत्रीय स्तर पर जुलुस के लिए पूर्व निर्धारित मार्ग के आधार पर ही अनुज्ञप्ति दें। मुहर्रम के अवसर पर विधि-व्यवस्था बनाये रखने हेतु सशस्त्र बल के साथ दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति दिनांक 09.09.19 के पूर्वा. से 11.09.2019 के अप.(पहलाम होने तक) के लिए की गयी है।

इस त्योहार के अवसर पर विधि-व्यवस्था एवं सांप्रदायिक सौहार्द बनाये रखने एवं स्थिति पर कड़ी निगरानी रखने हेतु मधुबनी समाहरणालय के सभाकक्ष में जिला नियंत्रण कक्ष की स्थापना की जायेगी। जिसका दूरभाष संख्या-06276-224425 है। सभी अनुमंडल पदाधिकारियों को अपने-अपने अनुमंडल मुख्यालय में दिनांक 9.09.19 के पूर्वा. से 11.09.19 के अप.(पहलाम समाप्त होने तक) अनुमंडल नियंत्रण कक्ष की स्थापना करने का निदेश दिया गया है।
इस त्योहार के अवसर पर विधि-व्यवस्था संधारण हेतु बड़े पैमाने पर दंडाधिकारी/पुलिस पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति के कारण सभी प्रकार की छुट्टियां(सरकारी पदाधिकारियों/पर्यवेक्षीय कोटि के पदाधिकारियों के लिए) रद्द कर दी गयी है। सभी पदाधिकारियों को नित्य खैरियत प्रतिवेदन जिला मुख्यालय को भेजने का निदेश दिया गया है।
प्रभारी जिला पदाधिकारी-सह-अपर समाहत्र्ता, मधुबनी एवं पुलिस अधीक्षक, मधुबनी द्वारा सभी पदाधिकारी एवं पुलिस जवानों को इस अवसर पर अपनी सेवा पूरी चुस्ती एवं सावधानी के साथ करने का निदेश दिया गया है। साथ ही प्रतिनियुक्ति स्थल से अनुपस्थित रहनेवाले पदाधिकारियों के विरूद्ध सख्त अनुशासनिक कार्रवाई की जाएगी। सांप्रदायिक हिंसा/तनाव आदि को रोकने,इससे निपटने की पूरी जिम्मेवारी प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी/पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल की है। इस संबंध में कोई ढ़िलाई या किसी प्रकार की शिथिलता गंभीर कत्र्तव्यहीनता समझी जायेगी। ही यह भी स्पष्ट किया गया कि सांप्रदायिक सौहार्द एवं शांति बनाये रखने के लिए स्थानीय अधिकारी जो भी कार्रवाई, बिना किसी भेदभाव से प्रेरित होकर निष्पक्ष पूर्वक करेंगे,उसमें पूर्ण समर्थन मिलेगा। जिला परिवहन पदाधिकारी, के द्वारा उपस्थित सभी पदाधिकारियों को नये यातायात नियमों के अनुपालन तथा उसका आम लोगों में जागरूकता लाने के बारे में जानकारी दी गयी। उन्होंने कहा कि नये यातायात नियम को लाने का मुख्य उदेश्य दुर्घटना को रोकना है। अधिक-से-अधिक लोग हेलमेट तथा शीट बेल्ट का प्रयोग करें साथ ही अन्य यातायात नियमों का भी पालन करें, जिससे दुर्घटना को रोका जा सकें।
उन्होंने सभी पदाधिकारियों को यातायात नियमों का पालन करने एवं अपने अधीनस्थों को भी इसका पालन सुनिश्चित करने को कहा। साथ ही सभी थानाध्यक्षों को अपने-अपने थाना क्षेत्रों में वाहन जांच अभियान में तेजी लाने का निदेश दिया। जिससे कि लोग अधिक-से-अधिक यातायात नियमों का पालन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *