दरभंगा – भाकपा का जिला समाहरणालय पर आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन बाढ़ सुखार का स्थाई निदान करों : भाकपा । 2 . दरभंगा – सङक पर जमा कचङा खोल रहा है बिहार मे स्वच्छता का राज। 3. दरभंगा – शोध में गुणात्मक एवं परिणात्मक डाटा की अहम भूमिका: डॉ० महापात्रो।

बिहार हलचल न्यूज ,जन जन की आवाज

ब्यूरो –  अजित कुमार सिंह

दरभंगा – बिहार में बिगड़ती विधि व्यवस्था के विरोध में, केंद्र व राज्य सरकारों की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ, बाढ़-सूखा के स्थाई समाधान, बाढ़ पीड़ितों को राहत दिलाने, सभी जर्जर सड़कों-पुलों की अविलंब मरम्मत, सामाजिक सुरक्षा पेंशन का भुगतान, सभी गारीबों को बास की जमीन एवं आवास, बढ़ती महंगाई, बेकारी भ्रष्टाचार के निदान आदि मांगों के समर्थन में आज भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के राज्यव्यापी आवाह्न पर हजारों किसानों, मजदूरों, महिलाओं, नौजवानों, छात्रों ने पोलो ग्राउंड लहेरियासराय के धरना स्थल से जुलूस के रूप में प्रदर्शन करते हुए गगनभेदी नारे बाजी करते हुए आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन किया।  समाहरणालय होते हुए पूनः धरना स्थल पर पहुंचकर सभा में तब्दील हो गया। सभा की अध्यक्षता राम नरेश राय ने की। सभा को संबोधित करते हुए भाकपा के दरभंगा जिला सचिव नारायण जी झा ने जिला के बिगड़ते विधि व्यवस्था की चर्चा करते हुए सुशासन बाबू के राज को दुशासन बाबू की संज्ञा दी। उन्होंने समस्याओं के समाधान के लिए संघर्ष तेज करने पर बल दिया। पार्टी के बिहार राज्य परिषद सदस्य एवं पूर्व जिला सचिव रामकुमार झा ने बाढ़ के स्थाई समाधान के लिए संघर्ष का आह्वान करते हुए कमला बलान पश्चिम तटबंध की मरम्मत पर सरकारी विफलता की जांच की मांग की। बिहार राज्य परिषद के वरिष्ठ सदस्य एवं किसान नेता शत्रुघ्न झा ने कृषि संकट की चर्चा करते हुए किसानों की फसलों की सुरक्षा लाभकारी मूल्य तथा 90% अनुदान राशि सिंचाई नलकूप की व्यवस्था करने की मांग पर जोर दिया। सभा को संबोधित करने वालों ने मुख्य रूप से दरभंगा जिला किसान सभा के अध्यक्ष एवं पार्टी के जिला कार्यकारिणी सदस्य राजीव कुमार चौधरी, किसान सभा के जिला महासचिव रामनरेश राय, खेत मजदूर यूनियन के जिला अध्यक्ष नबी हसन उर्फ कारी, खेत मजदूर यूनियन के जिला महासचिव सुधीर कुमार साह, विश्वनाथ मिश्र, राम श्रृगार सिंह, सुधीर राय, रामचंद्र साह, राम उदगार साह, लक्ष्मी कांत यादव, आशुतोष मिश्र, विद्या देवी, कमला कांत ठाकुर, बृजभूषण सिंह, सुकुमारी देवी, चंदेश्वर सिंह, श्यामा देवी, अहमद अली तम्मने, शैलेंद्र मोहन ठाकुर, हरे कृष्ण राम, शिव नारायण यादव, एआईएसएफ के जिला अध्यक्ष शशि रंजन प्रताप सिंह, जिला सचिव शरद कुमार सिंह आदि नेताओं ने संबोधन किया। उपरोक्त सभी मांगों का एक स्मार पत्र जिला समाहर्ता को भेंट कर सुपुर्द किया गया।

2 . दरभंगा – सङक पर जमा कचङा खोल रहा है बिहार मे स्वच्छता का राज

दरभंगा /रास्ते अगर आसान हो तो मंजिल राहगीरों की करीब हो जाती है लेकिन सवाल है की मार्ग दुरुस्त होना चाहिए बिहार मे अब भी कई प्रखण्ड मे सङको का हाल बदहाल नजर आ रहा है और सभी की सुस्ती साफ साफ झलक रही है जहाँ लोग परेशान हैं पैदल चलना भी मुहाल है रास्ते मे घास निकल गई कचरे का ढ़ेर लग गया मगर स्थानीय नेता से लेकर बङे नेताओं की नींद इतनी गहरी है की बेखौफ सोये हुए हैं और जनता परेशानी मे नजर आ रही है साथ ही कचरे का ढ़ेर स्वच्छता की भी पोल खोल रहा है और इससे अंदाजा लगाया जा सकता है की बिहार मे कितनी चकाचक सङक है और कितना विकास हुआ है सिंहवाङा प्रखण्ड क्षेत्र के बहुआरा बुजुर्ग मे मौलाना अबुल कलाम आजाद स्टेडियम से लेकर एस एच 75 को जोङने वाली सङक का हाल भी कुछ ऐसा ही है मिट्टीकर्ण कई बार हुआ लेकिन पक्की सङक अब तक नहीं बनी नहीं खरंजाकर्ण हुआ बरसात के दिनों मे पैदल यात्रा करना भी इस मार्ग से मुश्किल हो जाता है यह रास्ता आपस मे कई मार्ग से जुङता है जिला मुख्यालय सहित कमतौल , मुहम्मदपुर , आदि जगहों पर जाने के लिए यह एक लाईफ लाईन है फिर भी इस सङक की सुरत नहीं बदली दर्जनों गाँव के लोगों का आना जाना होता है स्कूल , काॅलेज , कोचिंग आने जाने वाले छात्र छात्राओं की टोली भी इसी रास्ते से गुजरती है पहले जब यह रास्ता दुरुस्त था तब दो पहिया वाहनों के साथ साथ बङे वाहनों का आना जाना होता था लेकिन अब पैदल जाना भी मुश्किल हो गया बहुआरा गाँव के यूवक मीर मोo शहनवाज ने बताया की यह रास्ता लोगों के लिए अन्य जगहों पर जाने के लिए आसान था लेकिन सङक का निर्माण नहीं होने के कारण अभी यहाँ से गुजरना कठिन हो गया है उप मुखिया मोo अनवर अली , मोo अशफाक , मोo कैश आदि लोगों ने बताया की हम लोग प्रयासरत हैं मांग भी रख चुके हैं और यह उम्मीद है की इस सङक का निर्माण भी जल्द ही हो जाएगा स्थानीय मोo जाकिर , मोo अमजद , सहदेव पासवान , आदि लोगों ने बताया की यह रास्ता पूरी तरह से बंद है बीच रास्ते मे घास निकल गई है कचरे का ढ़ेर है लोग अब दुसरे मार्गों का सहारा ले रहें हैं ग्रामीण सङक बनने की उम्मीद संजोए बैठे हैं।

3. दरभंगा – शोध में गुणात्मक एवं परिणात्मक डाटा की अहम भूमिका: डॉ० महापात्रो

दरभंगा- शोध समस्या के निदान के लिए गुणात्मक एवं परिणात्मक डाटा की विस्तृत जानकारी आवश्यक है । क्योंकि एस०पी०एस०एस में डाटा में इंपोर्ट और इंट्री के तरीके अलग हैं। उक्त बातें डॉक्टर संध्या रानी महापात्रो, ए०न० सिन्हा सामाजिक शोध संस्थान, पटना ने कही। डॉ महापात्रो स्थानीय सी०एम० कॉलेज में तीन दिवसीय कार्यशाला के दूसरे दिन संसाधन पुरुष के रूप में प्रतिभागियों को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि यदि शोधकर्ता एस०पी०एस०एस का उपयोग करते हैं तो इसकी तकनीक से पूरे तौर पर अवगत होना आवश्यक है। डॉ महापात्रो ने अपने व्याख्यान के माध्यम से इस तकनीक पर विस्तृत प्रकाश डाला । दूसरे सत्र में डॉ अविरल पांडे ने एस०पी०एस०एस के माध्यम से संबंधन पर प्रकाश डाला। उन्होंने सहसंबंधन मैट्रिक्स के द्वारा दो से अधिक घरों के बीच सहसम्बन्धन के महत्व और टी० वैल्यु महत्व फार्मूले पर जानकारी साझा की। तीसरे सत्र में डॉ० रीना कुमारी ने रिग्रेशन एनालिसिस पर व्याख्यान दिया। रिग्रेशन के प्रकार को एस०पी०एस०एस के माध्यम से बताया । ज्ञातव्य हो कि स्थानीय सी०एम० कॉलेज दरभंगा में 24 से 26 सितंबर तक तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन हुआ है जिसमें देश के विभिन्न राज्यों से 40 प्रतिभागी भाग ले रहे हैं। उनमें त्रिपुरा, असम,शिक्क़ीम जैसे पूर्वोत्तर राज्य की भी प्रतिभागी शामिल है। प्रधानाचार्य डॉ० मुश्ताक अहमद ने प्रसन्नता व्यक्त की है की शोध तकनीक पर आधारित यह कार्यशाला शैक्षणिक गुणवत्ता विशेषकर शोध कार्यों के माहौल को साजकार बनाएगा। अर्थशास्त्र विभाग के प्रोफेसर अवनि रंजन सिंह,डॉ० शिप्रा सिन्हा,डॉ० आर०बी०लाल,डॉ० नीरज कुमार, डॉ० विकास कुमार, डॉ०रीना कुमारी, डॉ० यादवेन्द्र सिंह आदि पूरे दिन कार्यशाला के प्रतिभागियों को हर प्रकार की सुविधा प्रदान करने हेतु तत्पर थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *